रविवार, 5 जून 2011

चोर उच्चक्के बनाम भोले बाबा !!!!!

 चोर उच्चक्के बनाम भोले बाबा 

   एल. आर गाँधी 

हमारे  यहाँ पंजाबी में एक कहावत है ' चोर उच्चक्का चौधरी गुंडी रणं प्रधान '.   ४ जून को राम लीला मैदान में जो कुछ हुआ इस कहावत को ही चरितार्थ करता है. बाबा राम देव भी भोले हैं ! देश के सबसे बड़े चोर उच्चाक्कों पर विशवास कर बैठे. बाबा उनके मुंह पर ही पहले तो उन्हें चोर कह रहे हैं और उनसे ही कार्रवाही की तवक्को करते हुए ऐसे कानून बनाने की आशा पाले बैठे हैं की वे खुद ही फंदा बनाएं और खुद ही अपने गले में डाल कर लटक जाएं. 
बाबा बोले की हम भोले तो हैं -मगर बेवकूफ नहीं. मगर वे भूल गए कि शातिर लोग भोलों को बेवकूफ बनाने में माहिर होते हैं. हमारे केन्द्रीय  मंत्रिमंडल में यूँ तो एक से एक बढ़ कर शातिर नेता भरे पड़े हैं. मगर सिब्बल साहेब का जवाब नहीं. पहले भोले भाले अन्ना को बेवकूफ बनाया और अब बाबा को. अरे भोले पण की भी हद हो गई - एक और तो चोरों के 'सरदार' को इमानदार कहे जा रहे हैं. जिसकी सरपरस्ती में भ्रष्टाचार के नए नए कीर्तिमान स्थापित हो रहे है- और फिर भी वह इमानदार है. इसे अन्ना और बाबा जैसे भोलों की बेवकूफी ही माना जायगा ..... चले हैं देश के ठगों को नकेल कसने !.  " तोहमतें आएंगी नादिर शाह पर - आप दिल्ली रोज़ ही लूटा करो - आज तो दिल्ली रोज ही लुट रही है. '
राज माता पर कोई तोहमत लगाए , तो दिग्गी जैसे वाच डाग टूट पड़ते हैं . पिछले दिनों सुब्रमनियम स्वामी ने आरोप  लगाया कि स्विस बैंकों में सोनिया जी का एक  लाख करोड़ जमा है. सोनिया जी भी चुप हैं और दिग्गी मियां की भी बोलती बंद है. अब इसका क्या अर्थ या अनर्थ निकला जाए. बाबा परोक्ष रूप में भ्रष्टाचार की माता को ही नंगा करने पर उतारू हैं. ऐसे में यदि बाबा यह सोचते हैं कि उनके भ्रष्टाचार और विदेशी धन वापस लाओ की मांग पर 'सरदार जी ' की सरकार पश्चिमोतान आसन लगा लेगी और भ्रष्टाचार की माता और उसके  मानस पुत्रों को सूली पर चढा देगी तो इसे बेवकूफी की हद तक का भोला पण ही कहा जाएगा. . 

अन्ना और बाबा बेवकूफी की हद तक भोले सही -मगर छह दशक की लूट खसूट के जनकों को जनता में नंगा करने का काम तो उन्होंने कर ही डाला. यह चिंगारी, कल के राम लीला मैदान की रामदेव लीला में सरकारी रावन के प्रवेश के बाद महाभारत के ,अमोघ अस्त्र का रूप भी ले सकती है.


5 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बदलाव नहीं दिखाई देता नेपथ्य में..

    उत्तर देंहटाएं
  2. दुखद प्रकरण का एक परिणाम यह भी है कि इसी बहाने सही सरकार पर काबिज़ लोगों की मंशायें तो जनता के सामने तो आयीं

    उत्तर देंहटाएं
  3. सर्वोच्च न्यायलय बाबा रामदेव की भी सूक्ष्म जाँच करे इसमें हमें कोई एतराज नहीं.....लेकिन अगर इस देश में रत्ती भर भी सत्य,न्याय व ईमानदारी जिन्दा है तो 4 जून 2011 को दिल्ली के रामलीला मैदान में रात 1 बजे हुए इंसानियत को शर्मसार करने वाली शर्मनाक बर्बरता के आतंकवादी सोनिया गाँधी,मनमोहन सिंह,शरद पवार,प्रणव मुखर्जी,कपिल सिब्बल,पवन बंसल,सुबोधकांत सहाय,पी.चिदंबरम जैसे गद्दारों व इंसानियत के दुश्मनों को पहले जेल में डाले क्योकि ये लोग जनरल डायर और किसी खूंखार आतंकवादी से भी ज्यादा बरा खतरा हैं इस देश व समाज के लिए....

    उत्तर देंहटाएं
  4. आप एकदम सही कह रहे हैं। जब कोई भी चोर घर में चोरी करने आता है तब जाग होने पर वह माफी नहीं मांगता अपितु हमला करके घरवालों को मारकर जाता है। ऐसे ही इन चोरों को पकड़ने की बात करेंगे तो मरने के लिए तैयार रहना ही पड़ेगा। लेकिन जनता को समझ आया ही होगा कि ये कितने बड़े चोर या डाकू हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. आदरणीय एल. आर. गांधी जी
    सादर वंदे मातरम्!

    शायद पहली बार पहुंचा हूं आपके यहां , प्रस्तुत लेख बहुत महत्वपूर्ण है -
    पहले भोले भाले अन्ना को बेवकूफ बनाया और अब बाबा को.
    … अजी ! समूचे हिंदुस्तान को बेवक़ूफ़ बनाते तो 60 वर्ष से भी ऊपर हो गए …
    बहुत विचारणीय प्रविष्टियां हैं आपके ब्लॉग पर , आभार !


    अब तक तो लादेन-इलियास
    करते थे छुप-छुप कर वार !
    सोए हुओं पर अश्रुगैस
    डंडे और गोली बौछार !
    बूढ़ों-मांओं-बच्चों पर
    पागल कुत्ते पांच हज़ार !

    सौ धिक्कार ! सौ धिक्कार !
    ऐ दिल्ली वाली सरकार !

    समय निकाल कर 4 जून की काली रात को ले'कर लिखी मेरी इस पूरी रचना के लिए उपरोक्त लिंक पर पधारिए…
    आपका हार्दिक स्वागत है


    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं