रविवार, 5 मई 2013

पवन जी की तूफ़ान मेल

पवन जी की तूफ़ान मेल 

   एल आर गाँधी

पटरी से उतरी तूफ़ान मेल की माफिक ड्योढ़ी में प्रवेश करते ही चोखी लामा बिफर पड़े ...अरे भई यह भी भला कोई बात हुई ..खाए भांजा और भरे मामा ..और इन बीजेपी वालों को तो बस हर बात पर इस्तीफ़ा चाहिए ..भांजे ने खाएं हैं तो भांजा भुक्ते ..मामा को क्यों सूली पर टांगने पर तुले हो ..सोनिया जी ने तो बांसल जी को क्लीन चिट दे दी ...अब बीजेपी जो चाहे उखाड़  ले ... हमने लामा की तूफ़ान मेल पर पावर ब्रेक लगाते हुए समझाया भई लामा इतिहास गवा है ..मामा -भांजे का तो सदियों से ३६ का आंकड़ा रहा है ..  मामा कंस  की कुंडली में तो भांजा कृषण अनादि काल से  काल-कुंडली मारे बैठा है  ..बेचारे पवन बंसल किसी तांत्रिक से इस काल -कुंडली का उपाए करवाएं .
यह कोई चीन थोड़े है जो २ ० ० ३ में रेल मंत्री रहे लियु झिजुन पर क्रप्शन के चार्ज लगते ही पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दें और रेल मंत्रालय का ही बोरी बिस्तर गोल कर दें ...हम विश्व के सबसे बड़े और विशाल लोक तंत्र हैं ..यहाँ सब कायदे से होता है ...फिर महज ९ ० लाख की बरामदगी भी ..छी : एक रेल मंत्री की क्या इतनी सी औकात है ...९ ० करोड़ या ९ ० ०  करोड़ होते तो हम भी मान लेते .
अब इन बीजेपी वालों को कौन समझाए ..वह दिन हवा हुए जब लाल बहादुर शास्त्री ने एक रेल दुर्घटना पर इस्तीफा थमा दिया था ..अब यदि दुर्घटनाओं और घोटालों पर इस्तीफे/कार्रवाही  होने लगें तो सिंह साहेब को अपनी केबिनेट मीटिंग 'तिहार' में बुलानी पड़  जाएं ... यह तो भला हो सोनिया जी का जो 'क्लीन चिट' हर वक्त अपने पर्स में तैयार रखती हैं .  

3 टिप्‍पणियां:

  1. कर्नाटक में एक्जिट पोल के बाद खान-ग्रेस ने अपनी अंतरिम समिती की एक बैठक में फ़ैसला लिया है, अब हम एक घूस मंत्री बनायेंगे जो केवल घूस लेने का काम करेगा, जिससे सरकार को बार बार अलग अलग मंत्रियों के ऊपर सफ़ाई देने से बचा जा सकेगा, और अगर कोई आरोप घूसमंत्री पर सिद्ध होता है तो तत्काल मंत्री को बदल दिया जायेगा। अंदर के सूत्रों से खबर मिली है कि घूसमंत्री पद खरीदने के लिये राशि अभी तय की जा रही है..

    उत्तर देंहटाएं
  2. बीजेपी वालों को कौन समझाए ..वह दिन हवा हुए जब लाल बहादुर शास्त्री ने एक रेल दुर्घटना पर इस्तीफा थमा दिया था ..अब यदि दुर्घटनाओं और घोटालों पर इस्तीफे/कार्रवाही होने लगें तो सिंह साहेब को अपनी केबिनेट मीटिंग 'तिहार' में बुलानी पड़ जाएं ... यह तो भला हो सोनिया जी का जो 'क्लीन चिट' हर वक्त अपने पर्स में तैयार रखती हैं ...................bahut sahi

    उत्तर देंहटाएं